मंगलवार, 29 जुलाई 2014

आज के सपने कल का यथार्थ होगा 



आज हम जो भी हैं, कल देखे गये सपनों के कारण किए गये प्रयासों का परिणाम हैं। कल हम जो भी होंगे। आज हमारे द्वारा देखे गये सपनों के कारण ही होंगे। आखिर सपने ही आधार प्राप्त कर योजनाओं में उद्देश्यों में परिवर्तित होते हैं। आज के अनुभव ही आने वाले कल शिक्षा में परिवर्तित हो जाते हैं। विरासत में प्राप्त ज्ञान से आगे की यात्रा करके ही तो मानव पीढ़ियाँ आगे बढ़ती जाती हैं। आज हम जो भी हैं कल देखे गये सपनों के कारण ही हैं तो कल हम जो भी होंगे आज देखे गये सपनों व उन पर आधारित योजनाओं के विकास व उन योजनाओं के क्रियान्वयन की सफलता पर ही निर्भर होगें। कल हम जो भी होंगे आज की योजनाओं में निर्धारित किए जाने वाले महत्वाकांक्षी व व्यावहारिक उद्देश्यों के कारण होंगे। कल हम जो भी होंगे अपने ध्येय से अभिप्रेरित करने के कारण होंगे।


एक टिप्पणी भेजें