शनिवार, 22 नवंबर 2014

सभी बनें प्रबंधक


वर्तमान में यह निर्विवाद रूप से स्वीकार किया जा चुका है कि प्रबंधन जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सर्वव्यापक है, जीवन में किसी भी क्षेत्र में प्रबंधन के अभाव में विकास की चरम अवस्था की ओर अग्रसर नहीं हुआ जा सकता। सभी के लिए विकास सुनिश्चित करने के लिए सभी के लिए प्रबंधन की शिक्षा सुनिश्चित करनी होगी। वर्तमान समय में सभी को प्रबंधन के ज्ञान व उसके प्रयोग करने की क्षमता की आवश्यकता है। प्रबंधन के अभाव में व्यक्ति का संपूर्ण विकास संभव नहीं है। अपने व्यक्तिगत, पारिवारिक, सामाजिक, राष्ट्रीय उत्तरदायित्वों व कर्तव्यों का पालन करना प्रबंध कौशल के बिना मुश्किल पड़ता है। अब यह न तो संभव है और न ही अपेक्षित कि प्रत्येक व्यक्ति के द्वारा कुक्षल प्रबंधक की नियुक्ति की जाय। हाँ, यह संभव है और आवश्यक भी कि प्रत्येक व्यक्ति को मानव संसाधन के रूप में इस प्रकार विकसित किया जाय कि वह स्वयं ही अपना प्रबंधक बन सके। इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति के अन्तर्गत प्रबंधन कौशल का विकास करना होगा ताकि वह एक अच्छे प्रबंधक के रूप में विकसित होकर कम से कम अपने व्यक्तिगत व पारिवारिक विषयों में श्रेष्ठ प्रबंधक बन सके। इस उद्देश्य से प्रत्येक व्यक्ति में प्रबंधक के गुणों का विकास करना होगा। प्रबंधक के गुणों का निर्धारण करना एक अत्यन्त जटिल काम है, फिर भी कुशल प्रबंधक के लिए आवश्यक समझे जाने वाले गुणों पर चर्चा करना समीचीन होगा। 

एक टिप्पणी भेजें