सोमवार, 5 जुलाई 2010

मानव संसाधन नियोजन की आवश्यकता

need for human-resource planning



मेकफारलैण्ड (mc farland) ने कहा है, ``आज भी विशे प्रकार के कौशल, जैसे-इन्जीयरिंग, गणित, भौतिक विज्ञान तथा कम्प्यूटर विशेषज्ञों का अभाव है, साथ ही उच्च पदों पर प्रशासकीय एवं नेतृत्व योग्यता का अभाव सदैव से ही रहा है। ऐसी कमियों को पूरा करने के लिए बड़ी मात्रा में राष्ट्रीय एवं उपक्रम आधार पर मानव संसाधन नियोजन की आवश्यकता है।´´

उपक्रम के आधार पर मानव संसाधन नियोजन की आवश्यकता निम्नांकित बिन्दुओं से स्पष्ट हो जाती है -

1. ऊंची कर्मचारी लागत में कमी लाने के लिए।


2. मानव संसाधन के प्रकारों का निर्धारण, उनकी भर्ती के स्रोतों की खोज में सहायक।


3. मानव संसाधन के चयन, नियुक्ति तथा प्रतिस्थापन में सहायक।


4. कर्मचारी विकास के लिए आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रमों को प्रभावशील बनाने में सहायक।


5. मानव संसाधन के अपव्यय पर नियन्त्रण।


6. कर्मचारी आवर्तन में कमी।


7. उत्पादन में उत्पन्न विघटन पर रोक।


8. मानव संसाधन की आवश्यकताओं में समन्वय।


9. जनशक्ति आवश्यकताओं का सही पूर्वानुमान करना।


10. भर्ती एवं चयन नीति को ठोस रूप प्रदान करने के लिए।


11. व्यवसायों के आकार वृद्धि के अनुकूल जन-शक्ति प्रंबन्ध के लिए।


12. जनाभाव तथा जनाधिक्य के कारण होने वाले दुष्प्रभावों से बचाव के लिए।


13. राष्ट्रीय जनशक्ति आयोजन का आधार।


14. औद्योगिक अशान्ति में कमी करने के लिए।

उपरोक्त बिन्दुओं के आधार पर स्पष्ट किया जा सकता है कि मानव संसाधन नियोजन किसी भी उपक्रम के लिए अत्यन्त आवश्यक है।
एक टिप्पणी भेजें