बुधवार, 10 जून 2009

परिचय

आज
प्रबंधन का युग है। प्रबंधन का अध्ययन विकास की और है, किन्तु आदमी अकेला पड़ता जा रहा है। इसका मूल कारण है कि हमने प्रबंधन का प्रयोग केवल आर्थिक विकास मे किया है। वैयक्तिक व पारिवारिक क्षेत्र में प्रबंधन का प्रयोग करके ही वैयक्तिक,पारिवारिक व सामाजिक शान्ति,सुख व समृद्धि प्राप्त कर राष्ट्र व विश्व शान्ति व समृद्धि प्राप्त की जा सकती है। अतः इस ब्लोग का प्रारंभ प्रबंधन के विषयों पर चर्चा करने के लिये की जा रही है। प्रबंधन का प्रयोग किस प्रकार वैयक्तिक, पारिवारिक व सामाजिक जीवन में किया जा सकता है? यह प्रमुख विषय रहेगा। विद्वान व विदुषी मित्रों की सहभागिता प्रार्थनीय है
एक टिप्पणी भेजें