रविवार, 22 दिसंबर 2013

प्रतिदिन कुछ न कुछ करो. यह तुम्हें धीरे-धीरे अच्छे भविष्य के निकट ले जाएगा.


  • हमारे पास केवल यही क्षण है, जो हमारे हाथ में तारे की जगह जगमगा रहा है और बर्फ़ की तरह पिघल रहा है.    -मैरी बी. रे
  • पीछे मत देखो और भविष्य का सपना भी मत देखो. इससे न तो बीता हुआ वापस मिलेगा और न ही तुम्हारे सपने पूरे होंगे. तुम्हारा कर्तव्य, तुम्हारा पुरस्कार और तुम्हारा भाग्य वर्तमान क्षण में मौजूद है.                                                                         -डेग हैमरस्कोल्ड
  • अतीत की और बार-बार देखने पर एक समस्या यह आ सकती है कि हमारा भविष्य भी हाथ से निकल जाएगा.    -माइकेल सिबेन्को
  • अभी आराम करने का समय नहीं है. अभी साहस और सहनशीलता का समय है. -विन्सटन चर्चिल
  • तुम्हें देर हो सकती है, लेकिन समय को नहीं.   -बेंजामिन फ़्रेंकलिट
  • हम जितना ज्यादा करते हैं, उससे भी ज्यादा कर सकते हैं. हम जितने ज्यादा व्यस्त रहते हैं, इतने ही ज्यादा मस्त रहते हैं.     -विलियम हेजलिन
  • प्रतिदिन कुछ न कुछ करो. यह तुम्हें धीरे-धीरे अच्छे भविष्य के निकट ले जाएगा.   -डाग फ़ायरबाघ
एक टिप्पणी भेजें