रविवार, 12 जनवरी 2014

युवा दिवस को समर्पण दिवस के रूप में मनाएं

मित्रो आज स्वामी विवेकानन्द का जन्म दिवस है. स्वामी जी के दिवस को हम युवा दिवस के रूप में मनाते आये हैं. कुछ लोग इसे कैरियर दिवस के रूप में भी मनाते हैं. स्वामी जी के दिवस को अपने स्वार्थ केवल अपने कैरियर की बात ही न करें, स्वामी जी संन्यासी से उसके अनुरूप वे अपने आध्यात्मिक विकास के लिये साधना करते किन्तु नहीं, उन्होनें ऐसा नहीं किया और अपने गुरु रामकृष्ण जी के निर्देश पर अपने आप को भारत के लिये समर्पित कर दिया उन्होंने भारतीय युवकों का आह्वान आध्यात्मिक विकास की अपेक्षा देश के भौतिक विकास के लिये किया. अतः आज हमें उनके दिखाये पथ पर चलते हुए अपने कर्तव्यों के प्रति समर्पित कर देना चाहिये और अपने सभी देशवासियों को गरीबी अभावों से मुक्त करने के लिये शिक्षा, तकनीकी व प्रबन्धन का प्रयोग करना चाहिये.
       आशा है हम उनके दिखाये पथ पर चल पायेंगे.

एक टिप्पणी भेजें