शनिवार, 13 अगस्त 2011

संबन्धों का प्रबन्धन, रक्षा का बन्धन

रक्षाबन्धन के इस लोकप्रिय अवसर पर मैं सभी देशवासियों के साथ मिलकर शुभकामना व्यक्त करता हूं कि श्री अन्ना हजारे जन-प्रबन्धन करते हुए अपने अनशन के व्रत के साथ शीघ्र ही अपने उद्देश्य में सफ़ल होकर भ्रष्टाचार के विरुद्ध सशक्त लोकपाल कानून बनबा कर जनता की भ्रष्टाचार से रक्षा कर पाने में सफ़ल हों. हम उनके दीर्घ-जीवन की कामना करते हैं. साथ ही आशा है एक लोकतांत्रिक देश के अनुरूप प्रभावी जन-प्रबन्धन करते हुए अपनी आवाज को बुलन्द कर स्व तन्त्र बना कर देश के विकास में योग दे सकेगें. अन्ततः सभी समस्याओं का समाधान प्रबन्धन के द्वारा ही मिलना है. अतः अन्नाजी का प्रयास भी जन-प्रबन्धन के द्वारा ही सफ़ल होगा.
            हम करेंगे जन-प्रबन्धन
     सफ़ल होगा रक्षा-बन्धन
        अन्नाजी को मिले सफ़लता,
            भ्रष्टाचार करेगा क्रन्दन.
एक टिप्पणी भेजें