गुरुवार, 6 अक्तूबर 2011

पुतला दहन छोड़ सैकड़ों राम पैदा करें

पुतला दहन नहीं, जन-प्रबंधन करने की आवश्यकता

विजयादशमी संपूर्ण भारत में ही नहीं मनाई जाती विश्व के अन्य कई देशों में भी मनाई जाती है. विजयादशमी को राम की रावण पर विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है. कहा जाता है कि यह सत्य की असत्य पर तथा न्याय की अन्याय पर विजय का प्रतीक है. प्रतीक के रूप में रावण के पुतले का दहन भी किया जाता है. अन्य उत्सवों की तरह इस उत्सव को भी हम एक परंपरा के रूप में मनाते हैं किन्तु जीवन में कोई परिवर्तन इससे नहीं आता. इसका कारण यह है कि हम केवल प्रतीक को जलाते हैं और रावण की प्रवृत्तियों को अपने अन्दर सजोकर रखते हैं ताकि हम भी सोने की लंका भले ही नहीं बना पायें, सोना इकठ्ठा तो कर सकें.

            वास्तविक बात यह है कि जो राम की पूजा करते हैं, यह आवश्यक नहीं कि वे राम के अनुयायी भी हों; इसी प्रकार रावण के पुतले को फ़ूकने वाले भी राक्षसी प्रवृत्तियों के विरोधी नहीं होते यदि ऐसा होता तो अपराधों का ग्राफ़ इतना ऊंचा नहीं होता. वर्तमान में हम लोग तो रावण से भी गिरी हुई प्रवृत्ति के हो गये हैं. रावण ने तो बहिन सूपर्णखा की बेइज्जती के प्रतिशोध में सीता-हरण किया था और सीता के साथ बलात्कार नहीं किया था वरन सम्मानपूर्वक लंका की वाटिका में पूर्ण सुरक्षा घेरे में रखा था. किन्तु आज सड़्कों पर चलते जाने कितनी सीताओं, पार्वतियों व सरस्वतियों का अपहरण किया जा रहा है: उम्र का ख्याल किये बिना अबोध व मासूम बालिकाओं के साथ बलात्कार करके हत्या कर दी जाती है; यही नहीं संभ्रान्त कहलाने वाला वर्ग बालिकाओं को जन्म ही नहीं लेने देता और कोख में ही हत्या कर देता है. वर्तमान में इस राक्षसी प्रवृत्ति को समझाने के लिये न तो मन्दोदरी है और न ही भेद देने वाला विभीषण. आज मन्दोदरी भी अपराध में साथ दे रही है और विभीषण स्वयं ही बचाव करने में उतर रहे हैं. राम तो हो ही नहीं सकते क्योंकि जिस विचार पर अगरबत्ती लगा दी जाती है, जिस की पूजा कर दी जाती है, वह वास्तव में श्रृद्धांजलि होती है और वह विचार मर जाता है. हमें राम की पूजा करने या रावण के पुतले जलाने की आवश्यकता नहीं है. इससे तो हम प्रदूषण बढ़ाकर रावण का काम आसान कर रहे होते हैं.
                हमें राम के जीवन को अपने जीवन में ढालने उनके आदर्शों को आचरण में ढालने व उनके द्वारा अपनाई गई कार्य-पद्धिति व प्रबंधन को अपना कर राम के द्वारा किये गये कार्यों को करने की आवश्यकता है. राम के बारे में कहा जाता है कि उनकों वनवास दिया गया किन्तु कैकई के चरित्र की दृढ़ता व उसकी विद्वता को देखकर यह प्रतीत नहीं होता. वस्तुतः राम जब विश्वामित्र के साथ गये थे तब विश्वामित्र जी ने उन्हें युद्ध कौशल सिखलाते हुए राक्षसों के दमन का संकल्प दिला दिया था. राक्षसों का दमन करने के लिये जन सहयोग आवश्यक था. जन-सहयोग राजा को प्राप्त नहीं हो सकता था. यह एक प्रमाणित तथ्य है कि जनता और राजा के बीच में दूरी रहती है. राजा जनता को साथ नहीं ले पाता वह सेना पर निर्भर रहता है. सेना के बल पर रावण को परास्त करना विशेषकर राक्षसी प्रवृति को नष्ट करना संभव नहीं था. यह बात समझते हुए राम ने माता कौशल्या का सहयोग लेकर अपने को अयोध्या के राजतंत्र से मुक्त करवाया था. जन-हित को ध्यान में रखते हुए  विदुषी कैकई ने अपयश लेकर भी राम का सहयोग किया. 
           
                राम ने चौदह वर्ष में स्थान-स्थान पर भ्रमण करते हुए जन-जागरण ही नहीं किया जनता का संगठन कर उसे शिक्षित व प्रशिक्षित कर शक्ति-संपन्न भी बनाया और लंका के आस-पास की ही नहीं लंका की जनता को भी रावण के विरुद्ध खड़ा कर दिया. यही नहीं रावण अपने घर को भी एक-जुट नहीं रख सका कहा यह जाता है कि रावण की पत्नी मंदोदरी भी रावण को राम के पक्ष में समझाती थी, डराती थी. यही नहीं रावण का भाई कई मन्त्रियों के साथ राम से आ मिला. कहने की आवश्यकता नहीं, विभीषण के पक्ष के लोगों और विभीषण से सहानुभूति रखने वाले सेनानायकों ने भी रावण का साथ तो नहीं दिया होगा. जनता को साथ लेकर ही राम रावण को परास्त करने में सफ़ल रहे थे. उन्होने जन प्रबंधन करके ही सफ़लता हासिल की.
        
                 आज परिस्थितियां उस समय से भी विकराल व भयानक हैं. उस समय राक्षसी प्रवृत्ति के लोग रावण के साथ एक अलग राज्य में रहते थे और उन पर बाहरी आक्रमण करके व आन्तरिक सहानुभुति व सहायता का उअपयोग करके उसे परास्त कर दिया गया किन्तु आज राक्षसी प्रवृत्ति हमारे अन्दर प्रवेश कर चुकी है. लोक-तन्त्र होने के कारण राक्षसी प्रवृत्ति ने जनता में भी पैठ बना ली है. आज हम राम की पूजा व रावण के पुतले को जलाने का ढोंग करते हैं, आडम्बर करके राम की जय बोलते हैं और रावण का जीवन जीते हैं. सत्य की बात करते हैं असत्य का आचरण करते हैं. आज समस्या शासन तक सीमित नहीं है, यह जनता तक पैठ बना चुकी है. भ्रष्टाचार तन्त्र तक सीमित नहीं है, सर्वव्यापक हो चुका है: आडम्बर धार्मिक ठेकेदारों तक सीमित नहीं रहा वरन जन जीवन में प्रवेश कर चुका है. आज सीताओं को खतरा बाहरी रावणों से ही नहीं, घर के अन्दर अपने लोगों के अन्दर प्रवेश कर गई राक्षसी प्रवृत्तियों से भी है. आज पिता व गुरू भी बलात्कारी व हत्यारे हो चुके हैं. भ्रूण-हत्या बाहरी रावण नहीं वरन मां-बाप द्वारा ईश्वर का दर्जा पाने वाले चिकित्सक की सहायता से की जाती है. इस विकराल व सर्वव्यापक होती जा रही राक्षसी प्रवृत्ति को परास्त करने के लिये जन प्रबंधन, जन शिक्षण, जन प्रशिक्षण व जन-जागरूकता की आवश्यकता है. आज एक राम नहीं वरन सैकड़ों राम-लक्ष्मणों की जरूरत पड़ेगी और यह कार्य चौदह वर्षों में नहीं सैकड़ों वर्षों में होगा. अतः हमें अपना जीवन लगाने, देश के लिये जीने व राम के पथ पर चलते हुए जन-प्रबंधन करते हुए कार्य रत रहने की आवश्यकता है.
                   विजयादशमी की शुभकामनाओं सहित

24 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

I've been browsing on-line greater than 3 hours today, but I
by no means found any interesting article like yours.
It is beautiful price sufficient for me. In my opinion, if all webmasters and bloggers made just right content material as you did,
the internet will probably be much more useful than ever before.


Here is my blog post ... chas que emagrecem

बेनामी ने कहा…

Fantastic beat ! I would like to apprentice while you
amend your web site, how can i subscribe for a blog site?
The account aided me a acceptable deal. I had been a
little bit acquainted of this your broadcast offered
bright clear concept

Here is my blog post cigarette coupe faim

डा.संतोष गौड़ राष्ट्रप्रेमी ने कहा…

Thanks for comment. If you want reply please disclose your name and Identity.

बेनामी ने कहा…

With havin so much content do you ever run into any problems of plagorism or copyright violation? My site has a
lot of unique content I've either authored myself
or outsourced but it looks like a lot of it is popping it up
all over the internet without my permission. Do you know any solutions to help protect
against content from being ripped off? I'd genuinely appreciate it.


My web site :: coupe faim homeopathie

बेनामी ने कहा…

What's up to all, how is all, I think every one is getting more from this site, and your views are fastidious in favor of new
visitors.

Feel free to surf to my site - acheter coupe faim en ligne

बेनामी ने कहा…

My partner and I stumbled over here coming from
a different page and thought I might as well check things out.

I like what I see so i am just following you.
Look forward to going over your web page again.

Feel free to surf to my site - acheter coupe faim puissant

बेनामी ने कहा…

Hey there would you mind letting me know which web host you're utilizing?
I've loaded your blog in 3 completely different browsers and I must say this blog loads a lot quicker then most.
Can you recommend a good web hosting provider at a honest price?
Kudos, I appreciate it!

Feel free to surf to my weblog coupe faim dangereux

बेनामी ने कहा…

Greetings from Los angeles! I'm bored to tears at work so
I decided to check out your blog on my iphone during lunch break.

I enjoy the info you provide here and can't wait to take a look when I get home.
I'm amazed at how quick your blog loaded on my cell phone ..
I'm not even using WIFI, just 3G .. Anyhow, good site!


my weblog - coupe faim efficace pour maigrir

बेनामी ने कहा…

I truly love your website.. Great colors & theme. Did you create this amazing site yourself?

Please reply back as I'm looking to create my own website and would like to learn where you
got this from or exactly what the theme is called.
Kudos!

Visit my page coupe faim efficace naturel

बेनामी ने कहा…

You're so awesome! I do not think I've truly read something
like that before. So nice to discover another person with some original thoughts on this issue.
Seriously.. thank you for starting this up. This website is one thing that's needed on the web,
someone with some originality!

my web-site :: vente coupe faim amphetamine

बेनामी ने कहा…

What i do not understood is actually how you're not actually much more neatly-preferred
than you may be now. You are so intelligent. You recognize therefore
considerably relating to this topic, produced me individually believe it from numerous various angles.

Its like women and men aren't fascinated unless it's one thing to do with Woman gaga!

Your personal stuffs nice. All the time deal with it up!

Here is my page ... aliments coupes faim

बेनामी ने कहा…

Do you mind if I quote a couple of your articles as long as I
provide credit and sources back to your website? My blog site is in the
very same niche as yours and my users would genuinely benefit from
some of the information you present here. Please let me know if this alright
with you. Many thanks!

Visit my web site: algue coupe faim

बेनामी ने कहा…

Hey! Someone in my Myspace group shared this site with us so I came to take a
look. I'm definitely enjoying the information. I'm bookmarking and will
be tweeting this to my followers! Outstanding blog and outstanding
style and design.

Feel free to surf to my webpage - coupe faim puissant naturel
(http://www.actinhome.co.kr)

बेनामी ने कहा…

Way cool! Some very valid points! I appreciate you writing this write-up and also
the rest of the site is really good.

Also visit my web page coupe fin naturelle

बेनामी ने कहा…

Hi there to all, the contents present at this website are really awesome for people knowledge,
well, keep up the nice work fellows.

Feel free to visit my web blog; savenodong.net

बेनामी ने कहा…

Why people still use to read news papers when in this technological globe everything is presented on net?


Check out my blog post - qu est ce qui coupe la faim

बेनामी ने कहा…

I am regular reader, how are you everybody? This article posted at this web site is genuinely nice.


Review my web blog: carrés coupe faim

बेनामी ने कहा…

Hello I am so happy I found your website, I really found you by mistake, while
I was browsing on Bing for something else, Anyways I am
here now and would just like to say thank you for a tremendous post and a
all round entertaining blog (I also love the theme/design), I don't have time to look over it all at the minute but I have bookmarked it
and also included your RSS feeds, so when I have time I will be back to read much more,
Please do keep up the awesome job.

My blog post; http://www.savenodong.net/?document_srl=425391

बेनामी ने कहा…

My brother recommended I might like this blog. He was totally
right. This post truly made my day. You cann't imagine simply
how much time I had spent for this info! Thanks!


My weblog: www.citsclub.cn

बेनामी ने कहा…

Greetings! I know this is kinda off topic but I was wondering which blog
platform are you using for this website? I'm getting tired
of Wordpress because I've had issues with hackers and I'm looking at alternatives for
another platform. I would be fantastic if you could point me in the direction of
a good platform.

My weblog; coupe de faim

बेनामी ने कहा…

Pretty section of content. I just stumbled upon your site and in accession capital to assert that I get actually
enjoyed account your blog posts. Anyway I will be subscribing to your feeds and even I achievement you access consistently rapidly.


Look at my web site - truc coupe faim (http://www.buttontea.com/xe/?document_srl=1024507)

बेनामी ने कहा…

What's up, after reading this awesome article i am too glad to
share my experience here with mates.

Stop by my blog - www.ggmtours.com

बेनामी ने कहा…

Great article! That is the type of information that are meant to be shared around the internet.
Shame on Google for no longer positioning this publish upper!
Come on over and seek advice from my site . Thank you =)

Also visit my blog post - www.mittelohr-workshop.de

बेनामी ने कहा…

Hi there, just became alert to your blog through Google, and found that it is really
informative. I'm gonna watch out for brussels. I'll appreciate if you continue this in future.
A lot of people will be benefited from your writing.
Cheers!

my homepage; plantes coupe faim